इजराइली

इजराइली सेना ने एक महत्वपूर्ण योजना बनाई है, जिसमें 10,000 सैनिकों और सैकड़ों टैंकों के साथ गाजा प्रांत के सूबा और अंडरग्राउंड टनल्स को नष्ट करने की योजना है। इस योजना का उद्देश्य इस्राएल को हमास द्वारा किए जा रहे हमलों से बचाना है और इस्राएल की सुरक्षा बढ़ाना है।

इस्राएली एयरफोर्स से आकाश से कवर की जा रही है ताकि सैनिक सुरंगों को खोलने के प्रयास कर सकें और सुरंगों में छिपे हमास सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई कर सकें।

यहाँ तक कि इस कार्रवाई के लिए तैयारी कर रहे सैनिकों को साथी युद्धी जनरल के साथ एक कई घंटों की उड़ान के बाद गाजा पहुंचाया गया है।

हालांकि यह योजना महत्वपूर्ण है, इसके अंतर्गत आने वाले सैनिकों के सुरंगों के माध्यम से हमास के तरफ से किए जाने वाले हमलों के खिलाफ तैयार रहने में देरी की एक मुख्य वजह है कि उत्तरी गाजा क्षेत्र अब तक इजराइल की कब्जे में नहीं है। यहां तक कि गाजा क्षेत्र के भूमि के नीचे कई सैकड़ों अंडरग्राउंड टनल्स और बंकरों में हमास के सदस्य छिपे हैं, जिन्होंने इस्राएल के खिलाफ कार्रवाई करने की संभावना है।

इसलिए, इजराइली सेना के सुरंग युद्ध की शुरुआत के लिए उपयुक्त समय का इंतजार कर रही है ताकि वे इस योजना को सफलता से पूरा कर सकें और आपने सैनिकों को सुरक्षित रख सकें।

 इजराइली सैनिकों

 

इजराइल वर्तमान में कई मोर्चों पर एक साथ जंग लड़ रहा है, लेकिन असली महायुद्ध अब शुरू होने वाला है. इस युद्ध को “सुरंग युद्ध” कहा जा रहा है, जो हमास के खिलाफ गाजा प्रांत में शुरू होने वाला है। काउंटडाउन शुरू हो चुका है और इजराइल के 10,000 सैनिक और सैकड़ों टैंक गाजा के उन सुरंगों में प्रवेश करने की तैयारी कर रहे हैं, जिनमें हमास के कमांडर और सैन्य लड़ाके मौजूद हैं।इस युद्ध का केंद्र गाजा के पतले और लबी गलियों में है, जहां अंधेरी और अभेद्य सुरंग हैं, और यहां पर बहुत बड़ा रक्तपात हो सकता है। इजराइली सेना किसी भी समय गाजा में प्रवेश कर सकती है, और इस सभी कार्रवाई के पीछे इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के आदेश की मान्यता है।इजराइल अब गाजा सीमा पर बड़ा सैनिक ताबड़तोड़ कैंप कर रहा है, जिसमें 10,000 से ज्यादा सैनिक और सैकड़ों टैंक और रॉकेट लॉन्चर्स शामिल हैं। यह युद्ध, 2006 के बाद से इजराइली सेना की सबसे बड़ी जमीनी युद्ध होने का आलंब है। इसका मकसद है हमास के समृद्धि को रोकना, और इसके लिए वह जल, थल, और नभ से आक्रमण करने की रणनीति अपना रहा है।

इजराइली सेना अर्बन वॉरफेयर में विशेषज्ञ है, लेकिन इसके बावजूद, हमास के अंधेरी सुरंगों और अभेद्य बंकरों के खिलाफ जंग लड़ना आसान नहीं होगा। इजराइली सेना भी इस चुनौती को अच्छी तरह समझती है, इसलिए उन्होंने ग्राउंड ऑपरेशन के लिए पूरी तरह से तैयारी की है, ताकि कम से कम नुकसान के साथ हमास का पूरी तरह से आहत किया जा सके।

इस अद्वितीय प्रस्तावित ऑपरेशन के अंतर्गत, इजराइली सेना का लक्ष्य है हमास के सुरंगों में छिपे उनके महत्वपूर्ण नेतृत्व को खत्म करना। इसी संदर्भ में इजराइल कैबिनेट ने हमास के प्रमुख नेता यह्या सिनवार और मरवान ईशा के खिलाफ डेथ वॉरंट जारी किया है।

इजराइली सैनिकों को जमीनी जंग लड़ने की स्पेशल ट्रेनिंग दी गई

Three Factors That Will Shape the Israel-Hamas War

इजराइली सैनिकों को गाजा के इलाकों में भूमि युद्ध के लिए विशेष प्रशिक्षण दिया गया है। यह युद्धिय सेना भूमि पर और आसमान से सुरक्षा प्रदान करेगी। इसके साथ ही इजराइल ने गाजा के बाद फिलिस्तीनी प्रशासन को सौंपने का योजना बनाई है।

हमास को मिटाना आसान नहीं होगा

  • हमास के लड़ाके घनी आबादी में छिपकर हमला करेंगे.
  • गाजा की गलियां संकरी और पतली हैं. वहां इजराइल के टैंक नहीं जा पाएंगे.
  • गाजा के लोगों को हमास के लड़ाके मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल करेंगे.
  • इजराइली सेना को रोकने के लिए हमास इजराइली बंधकों को मार सकते हैं.
  • गाजा में इजराइली सेना के लिए रास्ते अनजान होंगे, ऐसे में हमास जगह-जगह बारूद बिछाकर धमाका करेगा.
  • हमास के हजारों लड़ाके गाजा में जमीन के अंदर मौजूद सैकड़ों सुरंगें और बंकरों में छिपे हैं. वो सुरंग के अंदर से ही बिना दिखे ही हमला करेंगे.
  • इजराइली सेना अगर सुरंग में घुसती है, तो हमास उस सुरंग को ही विस्फोट कर उड़ा सकता है.
  • हमास लड़ाके MANPADS से इजराइल के एयरक्राफ्ट, हेलिकॉप्टर और ड्रोन को बर्बाद करेंगे.

इजराइली

ये वो चुनौतियां हैं, जिससे इजराइली सेना का सामना होने वाला है. बावजूद इसके इजराइली सेना सुरंग युद्ध छेड़ने जा रही है. इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू गाजा बॉर्डर पर मौजूद अपने सैनिकों से मिलने पहुंचे. मुलाकात के दौरान नेतन्याहू ने अपने जवानों से बात की. उनमें जोश भरा. नेतन्याहू के बाद इजराइल के राष्ट्रपति भी सैनिकों के बीच पहुंचे. उनका हौसला बढ़ाया और कहा कि हमास का खात्मा निश्चित है.

इजराइली सेना जो जमीनी जंग अब शुरू करने जा रही है, वो तीन दिन पहले ही शुरू होना था, लेकिन अब तक शुरू नहीं हो पाया, तो सवाल यही है कि आखिर जमीनी जंग में विलंब क्यों हो रही है? इस देरी के पीछे कारण क्या हैं?

उत्तरी गाजा अब तक खाली नहीं हो सका है, और सुरंग युद्ध शुरू करने में देरी की सबसे बड़ी वजह है कि उत्तरी गाजा को पूरी तरह से खाली नहीं किया गया है। सैकड़ों लोग अब भी उत्तरी गाजा से दक्षिणी गाजा जाने में असमर्थ हैं। इसके परिणामस्वरूप, इसराइल सेना ने फिर से लोगों से उत्तरी गाजा छोड़ने के लिए कहा है। हम उत्तरी गाजा छोड़ रहे हैं, लेकिन हमास अपने लड़ाकों को दक्षिणी गाजा जाने से रोक रही है। वास्तव में, हमास सामान्य लोगों को मानव कवच के रूप में उपयोग कर रही है।

इसराइली सेना ने कई छवियों को जारी किया है और दावा किया है कि हमास ने कई सड़कों को बंद कर दिया है, जिसके कारण सामान्य लोग उत्तरी गाजा से दक्षिणी गाजा जाने में असमर्थ हैं। वे लोग जो हमास के आदेशों का पालन नहीं कर रहे हैं, वे लोग जो अपनी जान बचाने की कोशिश कर रहे हैं, उन्हें हमास के लड़ाकों द्वारा मार दिया जा रहा है या वे कैदियों के रूप में बंद किए जा रहे हैं।

क्या हमास सामान्य लोगों को मानव कवच के रूप में बना रही है? हमास की नेतृत्व ने कोड भाषा में अपने लड़ाकों को या तो कैदी बनाने के लिए या फिर मौत के घाट उतारने के लिए स्पष्ट आदेश दिए हैं। हमास ऐसा इसलिए कर रही है कि युद्ध के दौरान इसराइली सेना के साथ लड़ाई के समय सामान्य और अन्दर्बाहिक लोगों को मानव कवच के रूप में उपयोग कर सके। इस ही कारण है कि उत्तरी गाजा अब तक पूरी तरह से खाली नहीं हो सका है। इसराइली सेना के सामने यह सबसे बड़ी चुनौती है। अब यह देखने को होगा कि इसराइली सेना इस चुनौती का कैसे सामना करती है ताकि निर्दोष और संरक्षित लोगों को हानि न हो।

Also Read This:https://indiapresstv.com/bloody-war-continues-between-israel-and-hamas/

Follow us on: https://www.instagram.com/indiapresstv/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *